Posted by: vmbhonde | मार्च 31, 2011

आदम और हव्वा के नियम

   
 

—>>> आदम और हव्वा के नियम <<<—

1. नियम हमेशा स्त्रियाँ ही बनाती हैं.

2. बिना किसी पूर्व सूचना के इन नियमों में कभी भी परिवर्तन किया जा सकता है.

3. कोई भी पुरुष सभी नियमों को कभी भी नहीं जान सकता है.

4. यदि स्त्री को शंका होती है कि पुरुष को सभी नियमों का भान हो गया है तो वो तत्काल ही कुछ या सभी नियमों को बदल डालती है.

5. स्त्री कभी गलत नहीं होती.

6. यदि स्त्री कभी गलत प्रतीत होती है तो इसका अर्थ है कि पुरुष ने कहीं न कहीं कुछ गलत कहा किया होगा.

7. यदि ऊपर का नियम 6 लागू होता है तो पुरुष को मिसअंडरस्टैंडिंग के लिए माफ़ी मांगनी होगी.

8. स्त्री अपने विचार किसी भी समय बदल सकती है.

9. पुरुष अपने विचार स्त्री से बगैर पूछे और स्त्री की सहमति के बिना कभी भी बदल नहीं सकता है.

10. स्त्री को किसी भी समय किसी भी कारण से या अकारण ही गुस्सा होने का पूर्ण अधिकार है.

11. पुरुष को पूरे समय संयम में व शांत रहना होगा, जब तक कि स्त्री न चाहे कि पुरुष किसी बात पर गुस्सा हों.

12. स्त्री किसी भी परिस्थिति में पुरुष को यह जानने नहीं देती कि पुरूष को किस बात पर गुस्सा या अपसेट होना चाहिए.

13. इन नियमों का दस्तावेज़ीकरण – मुद्रण या इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में या इंटरनेट पर प्रकाशन पूर्णतः प्रतिबंधित है


Responses

  1. I am sure writer of this must be guy/husband! Even though most of the husbands are aware of this, they all make/ REPEAT the same mistake!!!!!!!!!!!


तुमचा अभिप्राय नोंदवा

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदल )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदल )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदल )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदल )

Connecting to %s

प्रवर्ग

%d bloggers like this: